Hindi Kavita – माँ | Kaavyalaya – Poems that Touch the Heart – by Sadhna Jain

माँ is a Short Hindi Kavita about Maa (mother) written by Sadhna Jain. Kaavyalaya – Poems that Touch the Heart

माँ is a Short Hindi Kavita about Maa (mother) written by Sadhna Jain. This Hindi Kavita is a Mother’s Day Special Kavita dedicated to all the Mother’s.



माँ
 
माँ-बेटे का रिश्ता खून का ही नही, भावनाओं का होता हैं ,
बेटे की हर इच्छा का, माँ के दिल को पता होता हैं ,
 
माँ उगुंली पकड़ती हैं, तो चलना सिखाती हैं ,
गोद में बैठा लें, तो ममता लुटाती हैं ,
सुखों की बारिश हो, या दुखों की धूप हों ,
ये तो ऐसा छाता हैं, हर तूफान से बचाती हैं ,
 
माँ और टेलिविजन में कुछ फर्क नहीं हैं,
दोनों का रिमोट कन्टोल बेटे के हाथ में होता हैं ,
 
माँ तो वो दरवाजा होती हैं ,जिसका हर झरोखा
बेटे के दिल में खुलता हैं ,
 
पिता तो एक कुम्हार की तरह होता हैं ,
जो अन्दर से थपथपाता हैं ,
और चोट बाहर से करता हैं ,
पर माँ तो वो गीली मिट्टी होती हैं ,
जो हरदम सोंधी-सोंधी महक ही देती हैं ,
चाहे कहीं भी रहें, बेटे के लिए मंगल-कामना ही करती हैं ।
                                                                                 

Kaavyalaya is a Hindi Kavita Sangrah or Hindi Kavita Kosh comprising Hindi Kavitayein by Sadhna Jain. Kaavyalaya is a collection of Hindi Kavita on Life, Hindi Kavita on maa, Hindi Kavita about Nature, Hindi Kavita maa, Hindi Kavita on life events, Hindi Kavita for Nature & many more.

Engage:

Author: Asaan Hai

Asaan Hai. Get the latest information on what's important. We are not bound by a niche & share all that can be useful - News, Education, Recipes & lots more..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *